Haryana

हरियाणा में बॉन्ड पॉलिसी CM का फैसला: राशि 3 लाख और समयसीमा 2 साल घटाई; हड़ताल खत्म करने पर बंटे MBBS स्टूडेंट्स

चंडीगढ़15 मिनट पहले

बॉन्ड पॉलिसी को लेकर CM मनोहर लाल और हड़ताली MBBS स्टूडेंट्स के बीच मीटिंग खत्म हो गई। इसके बाद CM मनोहर लाल ने कहा कि बॉन्ड की समय सीमा 7 साल से घटाकर 5 साल कर दी गई है। इसके साथ ही यह भी फैसला किया है कि एक साल के अंदर कॉन्ट्रैक्ट लेवल की नौकरी भी स्टूडेंट को दी जाएगी। 3 घंटे चली मीटिंग के बाद यह फैसला लिया गया।

बॉन्ड पॉलिसी को लेकर मुख्यमंत्री की हुई MBBS छात्रों के साथ बैठक के बाद मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि हमारे डॉक्टर सरकारी नौकरी को प्राथमिकता दें। उन्होंने कहा कि स्टूडेंट्स को एक साल के अंदर कॉन्ट्रैक्ट लेवल की नौकरी मिलेगी। वहीं हड़ताल खत्म करने को लेकर MBBS स्टूडेंट्स बंट गए हैं। कुछ का कहना है कि वह हड़ताल खत्म नहीं होगी, लेकिन कुछ अभी भी समर्थन देने वाले संगठनों से मीटिंग के बाद अंतिम फैसले की बात कह रहे हैं।

CM से मीटिंग के बाद MBBS स्टूडेंट्स ने अंतिम फैसले के लिए एक दिन का समय मांगा। गौरतलब है कि MBBS स्टूडेंट्स इस संबंध में पिछले एक महीने से ज्यादा समय से प्रदर्शन कर रहे हैं। जिसमें उन्हें रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन और इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) का भी समर्थन मिला।

बॉन्ड पॉलिसी के विरोध में विपक्षी दलों के सामने आने के बाद सरकार हरकत में आई।

बॉन्ड पॉलिसी के विरोध में विपक्षी दलों के सामने आने के बाद सरकार हरकत में आई।

छात्राओं को फीस में 3 लाख की एक्स्ट्रा छूट
MBBS स्टूडेंट से मीटिंग के बाद मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने बताया कि छात्राओं को बॉन्ड की राशि में फीस में 3 लाख रुपये की कटौती की गई है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने दावा किया कि अधिकतर स्टूडेंट इस वार्ता में संतुष्ट हो गए हैं। एक साल के भीतर अनुबंध की नौकरी की गारंटी भी हरियाणा सरकार की ओर से दी गई है।

अब 30 लाख की हुई बॉन्ड पॉलिसी
हरियाणा सरकार ने पहले 40 लाख रुपए का बॉन्ड पॉलिसी में प्रावधान किया था। स्टूडेंट के विरोध के बाद हुई वार्ता के बाद सरकार की ओर से 10 लाख रुपए घटा दिए गए हैं। अब बॉन्ड पॉलिसी 40 की जगह 30 लाख रुपए की कर दी गई है।

PG की अलग से बनाई जाएगी पॉलिसी
मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा है कि पीजी पॉलिसी सरकार अलग से बनाएगी। सीएम ने यह भी कहा कि सरकार ही बॉन्ड का पैसा भी भरेगी।

स्टूडेंट्स की अलग-अलग राय
सीएम के साथ मीटिंग के बाद MBBS स्टूडेंट की अलग अलग बयान आ रहे हैं। स्टूडेंट पंकज बिट्‌टू का कहना है कि सीएम के प्रस्ताव से हम सहमत नहीं हैं। इसलिए हम हड़ताल जारी रखेंगे। वहीं अंकित गुलिया का कहना है कि हमारा निर्णय रेजिडेंट डॉक्टर के साथ बैठक के बाद होगा।

हमारा सपोर्ट स्टूडेंट्स के पक्ष में है, लेकिन मसौदा बैठक में रखकर आगे की रणनीति तय करेंगे। आंदोलन में शामिल MBBS की स्टूडेंट प्रिया कौशिक ने बताया कि जब तक प्रतिनिधियों की तरफ से कोई स्पष्टीकरण नहीं आता तब तक किसी भी निर्णय को अंतिम ना माना जाए।

खबरें और भी हैं…

Source link

Related Articles

Back to top button