Haryana

सोनीपत MLA का इस्तीफे पर यूटर्न: 14 को त्यागपत्र भेजा, मीडिया को इनकार किया; स्पीकर ने पुष्टि की तो शाम को बिना शर्त वापस लिया

  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Sonipat
  • Resignation Of Congress MLA Of Sonipat harassed By Threats From Gangsters; MLA Did Not Confirm, Speaker Said Email Was Received

सोनीपत6 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

हरियाणा के सोनीपत के कांग्रेस विधायक सुरेंद्र सिंह पंवार के विधानसभा से इस्तीफा देने का मामला एक ड्रामे की तरह रहा। स्पीकर की माने तो 14 जुलाई को ही वे अपना इस्तीफा दे चुके थे। ईमेल के बाद हस्ताक्षरित त्यागपत्र वॉट्सऐप से भी भेजा गया। सोमवार को मामला सार्वजनिक हुआ तो सुरेंद्र पंवार पहले तो इस्तीफा देने की बात से ही मुकर गए।

स्पीकर ज्ञानचंद गुप्ता ने विधायक पंवार के इस्तीफे की पोल खोली तो बाद में पंवार साथी कांग्रेस विधायकों के साथ स्पीकर को तलाशते हुए सीएम आवास पर जा पहुंचे। बिना शर्त अपना इस्तीफा वापस लेकर मीडिया से रुबरू हुए। इस दौरान इस्तीफे को लेकर कई प्रकार की चर्चाओं का बाजार भी गर्म रहा। यहां बता दें कि पंवार सोनीपत में एक बार नगर पार्षद बने थे। उन्होंने तब भी कार्यकाल के बीच में ही वार्ड के लोगों की नुमाईंदगी छोड़ दी थी।

दुबई से मिल रही थी धमकी

बताया गया है कि कुछ दिन पहले विधायक को फिरौती के लिए जान से मारने की धमकी भरे मैसेज दुबई से आए थे। कहा जा रहा है कि गैंगस्टरों की धमकियों से परेशान होकर उन्होंने विधानसभा स्पीकर ज्ञानचंद गुप्ता से 14 जुलाई को उन्होंने बात की। बकौल स्पीकर विधायक ने कहा कि वे परिवार की सुरक्षा को लेकर परेशान हैं। व्यक्तिगत कारणों से इस्तीफा देना चाहते हैं। स्पीकर ज्ञानचंद गुप्ता ने समझाया था कि वे विधायकों की सुरक्षा को लेकर सजग हैं। फिर से डीजीपी से बात करेंगे।

चंडीगढ़ में स्पीकर ज्ञानचंद गुप्ता और सुरेंद्र पंवार पत्रकारों से बातचीत करते हुए।

चंडीगढ़ में स्पीकर ज्ञानचंद गुप्ता और सुरेंद्र पंवार पत्रकारों से बातचीत करते हुए।

ईमेल के साथ वॉट्सऐप से भी भेजा

स्पीकर से बात होने के बाद विधायक सुरेंद्र पंवार ने ईमेल से अपना इस्तीफा भेज दिया। बाद में हस्ताक्षरित इस्तीफा की एक प्रति उन्होंने वॉट्सऐप से भी स्पीकर को भेजी। पंवार ने इस्तीफा दे दिया है, इसका खुलासा सोमवार शाम को हुआ। पत्रकारों ने पंवार से इस बारे में पूछा तो उन्होंने तुरंत इस्तीफा देने की बात पूरी तरह गलत बताया। वे चंडीगढ़ में थे। पत्रकार उनके आवास पर पहुंचे तो वहां उनके परिजनों और मित्रों ने भी त्याग पत्र की खबर को फेक बताया। बाद में विधायक ने अपना फोन भी बंद कर लिया।

कांग्रेस में मची खलबली

इस बीच हरियाणा विधानसभा स्पीकर ज्ञानचंद गुप्ता से पंवार के इस्तीफे को लेकर बात की गई तो उन्होंने झट से कह दिया कि पंवार ने व्यक्तिगत कारणों का हवाला देकर त्यागपत्र दे दिया है। उनके बयान के बाद तो कांग्रेस में भी खलबली मच गई। कांग्रेस के जो भी विधायक चंडीगढ़ में थे, वे आनन फानन में एकत्रित हुए। इसके साथ ही पंवार का इस्तीफा बचाने की कवायद भी शुरू हो गई। विधायक सुरेंद्र पंवार को लेकर स्पीकर के आवास पर पहुंच गए। वहां से पता चला कि स्पीकर ज्ञानचंद गुप्ता तो सीएम आवास पर गए हैं। इसके बाद कांग्रेस विधायक वहीं पहुंच गए।

अपने इस्तीफे पर पत्रकारों के सामने सफाई देते हुए विधायक सुरेंद्र पंवार और साथी विधायक।

अपने इस्तीफे पर पत्रकारों के सामने सफाई देते हुए विधायक सुरेंद्र पंवार और साथी विधायक।

स्पीकर को सौंपा इस्तीफा वापसी का पत्र

स्पीकर और कांग्रेस विधायकों के बीच बैठक के बाद सुरेंद्र पंवार के इस्तीफे कार मामला निपटा। स्पीकर ने कहा कि कांग्रेस विधायक सुरेंद्र पंवार ने बिना शर्त अपना इस्तीफा वापस ले लिया है। वे परिवार की सुरक्षा को लेकर चिंतित थे। इस बीच मीडिया से बातचीत में इस्तीफे को लेकर नानुकर करने वाले सुरेंद्र पंवार भी पत्रकारों के सामने आए और माना कि वे विधानसभा की सदस्यता से त्यागपत्र दे चुके थे। अब उन्होंने अपना त्यागपत्र वापस ले लिया है। इसके लिए उन्होंने इस्तीफा वापस लेने के लिए अर्जी भी स्पीकर को लगानी पड़ी।

कविता जैन को हरा कर बने MLA

बता दें कि सुरेंद्र पंवार ने 2019 में सोनीपत विधानसभा सीट से कांग्रेस की टिकट पर चुनाव लड़ा था। वे तत्कालीन मंत्री कविता जैन को हरा कर विधानसभा पहुंचे हैं। इससे पहले वर्ष 2014 के चुनाव में वे इनेलो की सीट से चुनाव मैदान में उतरे थे। तब वे तीसरे सथान पर रहे थे। इसके बाद उन्होंने पाला बदल कर पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा का दामन थमा था। कांग्रेस टिकट पर 2019 में चुनाव लड़ा और विधायक बने।

खबरें और भी हैं…

Source link

Related Articles

Back to top button