Haryana

विरोध प्रदर्शन: सीएम सिटी में जलभराव के विरोध में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने किया प्रदर्शन

करनालएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

करनाल. कांग्रेस कार्यकर्ता मांगो को लेकर लघु सचिवालय में नारेबाजी करते हुए कांग्रेस के जिला संयोजक त्रिलोचन सिंह व अन्य सदस्य।

  • कांग्रेस के 51 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ने ज्ञापन देकर मुख्यमंत्री मनोहर लाल से मांगा त्याग पत्र

शहर में बारिश से जलभराव की समस्या को लेकर कांग्रेस नेता मुखरित हुए। कांग्रेस के 51 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ने नारो और नारे लिखी तख्तियों से अपनी आवाज को बुलंद किया। कहा गया कि करनाल बारिश के पानी डूब गया है, करोड़ों रुपया पानी में डूब गया, करनाल भ्रष्टाचार का अड्डा बना है। कांग्रेस के जिला संयोजक त्रिलोचन सिंह के नेतृत्व में मुख्यमंत्री के नाम डीसी को ज्ञापन सौंपकर त्यागपत्र की मांग की गई।

कांग्रेस के जिला संयोजक त्रिलोचन सिंह कहा कि मुख्यमंत्री के हल्के में जल भराव, भ्र्ष्टाचार, लापरवाह तन्त्र, बेपरवाह सत्ताधीशों के खिलाफ करनाल की आवाज बन कर कांग्रेस नेताओं के 51 सदस्यीय प्रतिनिधि मंडल ने मुख्यमंत्री के नाम डीसी के माध्यम से ज्ञापन दिया, जिसमें सीएम से त्यागपत्र देने की मांग की गई है।

पिछले 10 दिन में दूसरी बार शहर में जल भराव और पानी निकासी में विफलता और शहर में पानी की निकासी के कार्यों में भ्रष्टाचार तथा स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में अफसरों के द्वारा करोड़ों रुपए की बंदर बांट के मुद्दे पर मुख्यमंत्री बिफल रहे हैं। इसलिए उन्हें अपने पद से त्यागपत्र दे देना चाहिए। शहर में पाश कालोनियों, स्लम एरिया, पुराना शहर, करनाल के आसपास की काॅलोनियों में 10 दिन में दूसरी बार बारिश से पानी भरने के कारण हा हा कार मचा हुअा है। लोग परेशान हैं, जिनकी सुनवाई नहीं है। मुख्यमंत्री तो दूर करनाल के बीजेपी नेता भी लोगो का हाल जानने तक नहीं पहुंचे।

उन्होंने कहा कि पानी की निकासी पर 7 साल में 850 करोड़ रुपए खर्च हुए। इसके बाद भी पानी भर गया। उन्होंने कहा कि हाल ही में पानी की निकासी में 85 करोड़ के घोटाले की बात सामने आई है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री करनाल को स्मार्ट सिटी बनाने के नाम पर कितना खर्च हुआ, इसका हिसाब दें। सरकार नगर पार्षदों की सुनवाई नहीं कर रही है। इसके अलावा उन्होंने स्मार्ट सिटी के कई प्रोजेक्ट सांझी साइकिल, शीरो रूम,नगर निगम की जमीन पर मल्टी स्टोरी पार्किंग,बस क्यू शेल्टर, पब्लिक टॉयलेट, सिटी बस सेवा जैसे प्रोजेक्ट बंद होने की चर्चा की।

उन्होंने कहा कि अब करनाल के लोग शांत नहीं रहेंगे। उनके विधायक ने उन्हें धोखा दिया है। उन्होंने कहा कि करनाल के लोग अपने आपको ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं। कोरोना काल मे लोग आक्सीजन और दवाओं की कमी से मरते रहे। कई घर बर्बाद हो गए। डेंगू, मलेरिया, पीलिया फैल रहा हैं व्यापारी, किसान, कर्मचारी और युवा परेशान हैं।उन्होंने कहा कि वह करनाल के प्रतिनिधि है वह हमेशा लोगों के बीच में हैं और रहेंगे।

खबरें और भी हैं…

Source link

Related Articles

Back to top button