Haryana

नया साल, नई जिंदगी, नई तनिष्का: चलने-फिरने लायक नहीं, पर नया लक्ष्य साधने निकली है; सिरफिरे आशिक ने शादी वाले दिन मारी थीं गोलियां

रोहतक21 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

रोहतक के गांव भाली-आनंदपुर में सनकी युवक की गोलियों का शिकार हुई तनिष्का मौत से जंग जीतने के बाद अब समाज के दुश्मनों को हराने की तैयारी कर रही है। तनिष्का ने अपने हाथ में किताब थाम ली है और IPS बनने का सपना संजोए तैयारी कर रही है। फिलहाल तनिष्का की स्थिति चलने-फिरने लायक नहीं है। इसके बावजूद उसने भविष्य के लिए अपनी तैयारी शुरू कर दी है। उसके बेड पर दवाइयों के साथ किताबों की उपस्थिति है। तनिष्का का कहना कि उसे भारत की पहली महिला IPS किरण बेदी की तरह हिम्मतवाली और बड़ा अफसर बनना है।

1 दिसंबर को थी तनिष्का की शादी
1 दिसंबर को भाली-आनंदपुर गांव निवासी मोहन से सांपला की तनिष्का की शादी हो रही थी। तनिष्का के लिए यह दिन ढेरों खुशियां लेकर आया था। वह इस बात से बेखबर थी कि रात होते-होते उसकी खुशियों को ग्रहण लग जाएगा। सारी खुशी, गम और असहनीय दर्द में बदल जाएगी। शादी की रस्में पूरी होने के बाद दूल्हा रात 10:30 बजे दुल्हन को लेकर कार में अपने गांव रवाना हुआ।

ओवरटेक कर कार से उतरे युवकों ने मारीं गोलियां
कार दूल्हे का भाई सुनील कार चला रहा था। तनिष्का का भाई उज्ज्वल भी साथ बैठा था। जब अपने गांव भाली में शिव मंदिर के पास पहुंचे तो एक इनोवा कार ने ओवरटेक कर गाड़ी रुकवाई। इनोवा से दो युवक हाथ में रिवाल्वर लिए नीचे उतरे। सबसे पहले एक युवक ने कार की चाबी निकाल ली। दूसरा युवक पीछे गया और दुल्हन तनिष्का को चेहरे, गर्दन और पेट में गोली मार दी।

जिजीविषा से मौत को दी मात
गंभीर हालत में तनिष्का को पीजीआई रोहतक में दाखिल कराया गया। वहां कई दिन तक उपचार के बाद उसे गुरुग्राम मेदांता रेफर कर दिया। उसकी हालत देख लग रहा था कि तनिष्का जिंदगी की जंग हार जाएगी। डॉक्टरों की मेहनत और तनिष्का ने अपनी जिजिविषा से मौत को मात दी।

निडर और निर्भय बनना है लक्ष्य
तनिष्का ने कहा कि वह पढ़-लिखकर अपना कैरियर बनाएगी। कम से कम DSP रैंक की अफसर बनना उसका लक्ष्य है। इसके लिए उसने अभी से पढ़ाई शुरू कर दी है। वह अपनी जिंदगी में निडर और निर्भय बनकर महिला सुरक्षा के लिए काम करेगी। तनिष्का ने कहा कि समाज में लड़कियां सुरक्षित नहीं हैं। उन्हें सुरक्षा प्रदान करने के लिए काम करेगी, ताकि वह बिना दबाव के दिन और रात कहीं भी आ जा सकें। वह खुद को ऐसे रूप में पेश करेगी, जो दूसरों के लिए एक मिसाल हो।

खबरें और भी हैं…

Source link

Related Articles

Back to top button